बुधवार, 16 मार्च 2016

अरे वाह रे मेरे देश के संविधान !

....अरे वहा रे मेरे देश के नीति निर्धारक और इस देश का इंडियन सम्विधान और यहाँ के नेता सब के सब अंधे-गूंगे हो गए हैं....... पाकिस्तान क्रिकेटर शाहीद अफरीदी ने भारत की तारीफ क्या कर दी कि पाकिस्तान ने अफरीदी को देशद्रोह का नोटिस दे दिया हैं और सुनो आज भारत के मुस्लिम नेता ओवैसी ने क्या कहा हैं कि मैं कभी भी भारत माता की जय नहीं कहूँगा...... सब चुप हैं क्योंकि यहाँ संविधान में हिन्दू को दूसरे नंबर की नागिरता प्राप्त हैं भारत का कानून यहाँ कुछ नहीं बोलने वाला चाहे देश का कुछ भी हो जाये भारत में तो भारत के खिलाफ बोलने वालो की कमी नहीं, जिस देश का खाते हैं उसी देश को नीचा दिखाते हैं और यहाँ का कानून इतना दोगला हैं की चाहे कितना भी भारत के खिलाफ ज़हर उगले पर यहाँ आजाद होकर रह सकते है, क्योंकि अभी तक कन्हैया को J N U पर सुनते आये हैं और कश्मीर की आज़ादी के नारे भी सुने हैं और कश्मीर में isis के झंडे भी दिखाएँ जाते हैं हम फिर भी चुप हैं पर क्या भारत का पूरा सिस्टम ही ख़राब हैं या कुछ करना नहीं चाहते अगर ऐसा ही रहा तो भारत फिर से गुलाम हो जाएगा...... छोटे- छोटे मुद्दों को उठाकर आन्दोलन करने वाले हिन्दू संगठन भी कभी दृढ़निष्ठा से भारत में हिन्दू समाज को समानता का अधिकार दिलाने का, समान नागरिक संहिता लागू कराने का प्रयास नहीं करते ? एक तरफ पाकिस्तान हैं वहाँ का कोई भी नागरिक भारत की तारीफ भी कर दे तो उसे जेल हो जाती हैं और देशद्रोह का केश लगा दिया जाता हैं और भारत में इसका उल्टा हैं आखिर क्यों डरे हो क्या केवल गन्दी राजनीति करनी आती हैं भारत के राजनेताओ को कम से कम दुसरो को देख कर सीख़ लो और ओवैसी तो खुले आम बोलता हैं । फिर भी सब के सब अंधे हैं । सब चुप हैं महान हैं मेरे देश का कानून और सिस्टम ?? कहने भर के लिए ओवैसी पर कोर्ट केस हो गया तो कुछ लोग बहुत प्रसन्न हो रहे है, उन बेचारों को तो इतना भी नहीं पता नहीं होगा कि इंडियन संविधान में गैर हिन्दुओं को विशेषाधिकार प्राप्त है ! विश्वजीत सिंह अनन्त भारत स्वाभिमान दल http://www.bharatswabhimandal.org

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

मित्रोँ आप यहाँ पर आये है तो कुछ न कुछ कह कर जाए । आवश्यक नहीं कि आप हमारा समर्थन ही करे , हमारी कमियों को बताये , अपनी शिकायत दर्ज कराएँ । टिप्पणी मेँ कुछ भी हो सकता हैँ , बस गाली को छोडकर । आप अपने स्वतंत्र निश्पक्ष विचार टिप्पणी में देने के लिए सादर आमन्त्रित है ।