रविवार, 2 अक्तूबर 2011

गांधी जी नेताजी सुभाष की दृष्टि में ?


आजाद हिन्द फौज के पुर्नसंस्थापक नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने गांधी जी के जीवन - चरित्र को देखते हुए उनकी तुलना हिटलर जैसे तानाशाह से की थी । यह पढ़कर आप चकित होगें कि क्या यह लेख सत्य है - अंतरराष्ट्रीय मंच से गांधी जी को " राष्ट्रपिता " की उपाधि देने वाले नेताजी सुभाष ने उनकी ऐसी तुलना की होगी , कदापि नहीं । किन्तु यह मध्याह्न के सूर्य की भाँति देदीप्यमान सत्य है - नेताजी सुभाष ने ऐसा ही लिखा है । ऑक्सफोर्ड पूनिवर्सिटी प्रेस से प्रकाशित नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की पुस्तक " द इंडियन स्ट्रगल 1920 - 1942 " में बोस ने लिखा है कि गांधी ने जनता की मनोभावना का ठीक वैसे ही दोहन किया , जैसे इटली में मुसोलिनी , रूस में लेलिन और जर्मनी में हिटलर ने किया था ।
गांधी जी जानते थे कि भारतीय हिन्दू समाज में यूरोप की तर्ज पर स्थापित चर्च की तरह कभी कोई संस्था नहीं रही , लेकिन भारतीय जन मानस को हमेशा से आध्यात्मिक व्यक्तित्व प्रभावित करते रहे है और लोग उन्हें साधु , संत और महात्मा के रूप में पहचानने लगते है । भारतीय जनता की इसी मनोभावना का दोहन गांधी जी ने मिस्टर गांधी से महात्मा गांधी बनकर किया था ।
नेताजी सुभाष ने गांधी जी को बहुत निकट एवं गहराई से देखा था , उनके साथ भारतीय स्वाधीनता की लडाई लड़ी थी , तो फिर क्या कारण रहें कि गांधी जी को राष्ट्रपिता कहकर सम्मानित करने वाले नेताजी सुभाष ने उनकी तुलना हिटलर जैसे निरंकुश तानाशाह से कर दी ?
इसका कारण खोजने के लिए हमें उस समय के इतिहास के पन्नों को खंगालना होगा । कुछ विशेष कारणों को आप इसी ब्लॉग पर लिखें गये निम्नलिखित लेखों से भी जान सकते है -
1. नेताजी सुभाष के प्रति गांधीजी का द्वेषपूर्ण व्यवहार
2. इरविन - गांधी समझौता और भगतसिंह की फाँसी भाग - एक , भाग - दो
3. अखण्ड भारत के स्वप्नद्रष्टा वीर नाथूराम गोडसे भाग - एक , भाग - दो , भाग - तीन
4. गौहत्या पर प्रतिबंध के खिलाप गांधी - नेहरू परिवार
5. क्रान्तिकारी सुखदेव का गांधी जी के नाम खुला पत्र ।
- विश्वजीत सिंह ' अनंत '

2 टिप्‍पणियां:

  1. mere kayal se sirf gandiji ki vajah se hame swtantr bahuth late mila....unhone bhagath singh nethaji jaise desh bakthoka sath nahi diya...

    उत्तर देंहटाएं

मित्रोँ आप यहाँ पर आये है तो कुछ न कुछ कह कर जाए । आवश्यक नहीं कि आप हमारा समर्थन ही करे , हमारी कमियों को बताये , अपनी शिकायत दर्ज कराएँ । टिप्पणी मेँ कुछ भी हो सकता हैँ , बस गाली को छोडकर । आप अपने स्वतंत्र निश्पक्ष विचार टिप्पणी में देने के लिए सादर आमन्त्रित है ।