बुधवार, 10 अगस्त 2011

अहिंसा क्या है ?


साधारण अर्थ में मन , वचन और कर्म के द्वारा किसी भी प्राणी को कष्ट न देना , न सताना , न मारना अहिंसा कहलाता है । अहिंसा परमधर्म है । किन्तु अहिंसा की यह परिभाषा बहुत ही अपूर्ण और असमाधान कारक है । केवल शब्दार्थ से अहिंसा का भाव नहीं ढूँढा जा सकता , इसके लिए योगेश्वर श्रीकृष्ण द्वारा अर्जुन को दी गई व्यवहारिक शिक्षा का आश्रय लेना पडेगा ।
जिस पुरूष के अन्तःकरण में ' मैं कर्ता हू ' ऐसा भाव नहीं है तथा जिसकी बुद्धि सांसारिक पदार्थ और कर्मो में लिप्त नहीं होती है , वह पुरूष सब लोगों को मारकर भी वास्तव में न तो मारता है और न ही पाप से बंधता है । जिस हिंसा से अहिंसा का जन्म होता है , जिस लडाई से शान्ति की स्थापना होती है , जिस पाप से पुण्य का उद्भव होता है , उसमें कुछ भी अनुचित या अधर्म नहीं है । वास्तव में मानवता की रक्षा के लिए दुष्टों का प्राण हरण करना तो शुद्ध अहिंसा है । अत्याचारी के अत्याचार को सहन करने का नाम अहिंसा नहीं यह तो मुर्दापन है । मृत शरीर पर कोई कितना ही प्रहार करता रहे , वह कोई प्रतिकार नहीं करता । इसी प्रकार जो मनुष्य चुपचाप अत्याचार सह लेता है , वह मृत नहीं तो और क्या है ?
भारतीय वैदिक संस्कृति में अत्याचार सहने का नहीं बल्कि अत्याचारी को दण्ड देने का विधान है जैसा कि मनुस्मृति के निम्नलिखित श्लोक से प्रकट है -
गुरूं वा बालवृद्धौ वा ब्राह्मण वा बहुश्रुतम् ।
आततायिनमायान्तं हन्यादेवाविचारयन् ।।
गुरू हो , बालक हो , वृद्ध हो , ब्राह्मण हो अथवा बहुश्रुत ( बहुत शास्त्रों का श्रोता ) ही क्यों न हो - यदि आततायी के रूप में अत्याचार करने अथवा मारने आ रहा हो तो उसको बिना सोचे - विचारे मार देना चाहिये । इसलिए अहिंसा का सही भाव है कि जो निजी स्वार्थ के वशीभूत होकर दूसरों को हानि पहुँचाता है , या किसी के प्राण लेता है , तो वह हिंसा है , और जो परमार्थ के लिए या सार्वजनिक हित के लिए अत्याचारी को हानि पहुँचाता , या उसको मार डालता है , तो वह हिंसा न होकर सच्ची अहिंसा है । क्योंकि उससे सार्वजनिक हित होता है ।
जैसे यदि कोई अत्याचारी चोर , डाकू , लुटेरा , बलात्कारी आदि - आदि जब किसी पर आक्रमण करता है , उस समय उसके विरूद्ध वह व्यक्ति , जिस पर उसका आक्रमण है , अथवा अन्य कोई समर्थ व्यक्ति , अथवा राज्य द्वारा नियुक्त पुलिस विभाग का कर्मचारी , कोई भी सुरक्षात्मक रूप में आक्रामक पर वार करता है , जिससे वह मारा जाता है , तब वह कर्म वहाँ पर हिंसा नहीं है ? क्योंकि मारने वाले का लक्ष्य उसे मारना नहीं था , वरन् अपनी सुरक्षा हेतु अथवा बुराई को हटाने के लिए ही प्रत्याक्रमण करना था । अतः यह सिद्ध होता है कि मन , वचन और कर्म तीनों से ही दूसरों को हानि न पहुँचाना अहिंसा है ।
सूक्ष्म दृष्टि से विचार करे तो अहिंसा की प्रतिष्ठा इसलिए नहीं है कि उससे किसी जीव का कष्ट होता है । कष्ट होना न होना कोई विशेष महत्व की बात नहीं है , क्योंकि शरीरों का तो नित्य ही नाश होता है और आत्मा अमर है , इसलिए मारने न मारने में हिंसा - अहिंसा नहीं है । अहिंसा का अर्थ है - ' द्वेष रहित होना । ' निजी राग - द्वेष से प्रेरित होकर संसार के हित - अहित का विचार किये बिना जो कार्य किये जाते है , वे हिंसा पूर्ण है । यदि लोक कल्याण के लिए , मानवता की रक्षा के लिए किसी को मारना पडे तो उसमें दोष नहीं है , वास्तव में वह शुद्ध अहिंसा है ।
- विश्वजीत सिंह ' अनंत '

4 टिप्‍पणियां:

  1. आदरणीय विश्वजीत सिंह जी, सहमत हूँ आपसे...
    भगवत गीता में श्री कृष्ण ने भी अर्ज़ुन को यही समझाया था| पता नहीं आज के दौर में अहिंसा की कैसी व्याख्या गढ़ दी गयी है? यह अहिंसा न रहकर कायरता के समकक्ष प्रतीत हो रही है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. https://www.facebook.com/groups/biggestcrime/

    आपकी यंहा आवश्यकता है

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या लिखते हो भाई | मनुस्मृति से उद्धरण दे रहे हो , किसी कांग्रेसी की नजर पड़ गयी तो सांप्रदायिक घोषित कर दिए जाओगे |
    और अहिंसा का मतलब होता है कि कोई आपका सब कुछ लूट ले , आधी रात को आपके संतों और देशवासियों पर लाठियाँ चलवाए पर आपको कुछ नहीं बोलना चाहिये | अगर आप ऐसा करते है तब आप सही मायने (गाँधी और कांग्रेस के अनुसार) में अहिंसक (कायर) हैं | और अगर आप नहीं मानते हैं तो मैं आपका पता डॉगविजय सिंह को दे देता हूँ , वो आपको लाठी-डंडों के साथ काफी सरल भाषा (कांग्रेसी अहिंसा) मे समझा देगा |

    उत्तर देंहटाएं
  4. sahi hai........... waise hum bhartiyon ne apne parlok ko sudhaarne ke chakkar mein iss lok ka kabada kar diya hai.
    siddhartha bhandari

    उत्तर देंहटाएं

मित्रोँ आप यहाँ पर आये है तो कुछ न कुछ कह कर जाए । आवश्यक नहीं कि आप हमारा समर्थन ही करे , हमारी कमियों को बताये , अपनी शिकायत दर्ज कराएँ । टिप्पणी मेँ कुछ भी हो सकता हैँ , बस गाली को छोडकर । आप अपने स्वतंत्र निश्पक्ष विचार टिप्पणी में देने के लिए सादर आमन्त्रित है ।