रविवार, 19 दिसंबर 2010

जीवन मेँ नवयोग चेतना


हमेँ जीवन मेँ नवयोग की ऐसी चेतना उत्पन्न करनी है जिसके द्वारा ऐसे जीवन का निर्माण हो सके जो वैज्ञानिकता और आध्यात्मिकता से ओतप्रोत हो । वह जीवन एडीसन, न्यूटन, धन्वन्तरि, कणाद, बौधायन, रदरफोर्ड, पतञ्जलि, आईँस्टीन के द्वारा सम्पन्न हो और साथ ही राम, कृष्ण, बुद्ध, चाणक्य, जीजस, विवेकानन्द, शिवाजी, विक्रमादित्य के द्वारा भी सम्पन्न हो । वह जीवन सभी आयामोँ से सम्पन्न बने बाह्य रुप से भी और आन्तरिक रुप से भी ।
चेतना ही जीवन है, जीवन्तता है । चेतना उत्साह है, कुछ करने की, कुछ पाने की ।।
चेतना जीवन का गीत है, संगीत है । चेतना हृदय का प्रकाश है, ईश्वर का अनुदान है ।।
भावनाओँ को जागृत करने का नाम है चेतना । उत्साह की तरंगोँ मेँ उफान लाने का नाम है चेतना ।।
जीवन मेँ आगे बढने का नाम है चेतना । किसी परम् उद्देश्य के लिए समर्पित हो जाने का नाम है चेतना ।।
विश्वजीत सिंह 'अनंत'

2 टिप्‍पणियां:

  1. जीवन मेँ नव चैतन्य की प्रेरणा देने वाली सुन्दर कविता ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अध्यात्म और विज्ञान के समन्वय से जीवन मेँ नव चेतना उत्पन्न की सुन्दर संकल्पना ।

    उत्तर देंहटाएं

मित्रोँ आप यहाँ पर आये है तो कुछ न कुछ कह कर जाए । आवश्यक नहीं कि आप हमारा समर्थन ही करे , हमारी कमियों को बताये , अपनी शिकायत दर्ज कराएँ । टिप्पणी मेँ कुछ भी हो सकता हैँ , बस गाली को छोडकर । आप अपने स्वतंत्र निश्पक्ष विचार टिप्पणी में देने के लिए सादर आमन्त्रित है ।